Letter To Google - आतंकवाद मुक्त हो इंटरनेट


आतंकवाद किसी भी देश के लिए बुरे सपने जैसा होता है जिसे देखकर रूह कॉप सी जाती है देशों की तो अब बात छोड़िये आतंकवाद पूरी दुनिया पर अपनी हुकूमत करता नज़र रहा है प्रदेश-दर-प्रदेश, शहर-दर-शहर आतंकवाद अपने पाँव बड़ी मज़बूती के साथ जमाता जा रहा है  

आतंकवाद का दिन--दिन मजबूत होना किसी सुनामी से कम नहीं, जिसे दिन आतंक नाम की ये सुनामी दुनिया को अपनी आगोश में लेगी वो दिन किसी क़यामत से कम नहीं होगा युवाओं का आतंक की ओर खिंचाव पूरी दुनिया के लिए नाश का कारण बनता जा रहा है हर रोज हज़ारों की तादात में युवा इंटरनेट पर आतंकियों द्वारा लिखे गये आर्टिकल्स पढ़ते हैं और आतंकियों से प्रभावित होकर आतंक का रास्ता अपना लेते हैं। जिसे उम्र में युवा अपना कैरियर ढूढ़ता है उसी उम्र में वो आतंक के आका कहे जाने वाले हाफ़िज़ सईद के बिछाये जाल में फसकर आतंकवादी बन जाता है।

आतंक की पूजा करने वाला हाफ़िज़ सईद, इंटरनेट पर अपनी वेबसाइटों के जरिये युवाओं को आतंक का प्रसाद खिला कर उन्हें अपने बस में कर लेता है और वो युवा उसे अपना खुदा समझकर उसकी इबादत में लगे रहते हैं हाफ़िज़ सईद की इबादत में सज़दा करते युवा उसके एक इशारे पर सैकड़ों लोगों को एक साथ मौत की नींद सुला देते हैं बग़दादी और हाफ़िज़ सईद इंटरनेट के जरिये रोज़ाना हज़ारों युवाओं को अपनी ओर आकर्षित कर लेते हैं और उन्हें आतंक का चोला पहनाकर दुनिया भर में आतंक का परचम लहराते हैं

मैं आये दिन अखबारों में पढ़ता हूँ बग़दादी से प्रभावित होकर 3 युवाओं ने थामा .एस. का दामन, कभी खबर होती कि हाफ़िज़ सईद की वेबसाइट पर लिखे गए आर्टिकल पढ़कर इतने युवाओं ने चुना आतंक का रास्ता
ये सब देखते हुए मैं गूगल के फाउंडर्स और पूरी टीम से अनुरोध करता कि आतंक फ़ैलाने वाली वेबसाइटों को गूगल में इंडेक्स किया जाये  

मैं श्री सुन्दर पिचाई जी से गुजारिश करता हूँ कि दहसद गुर्दों की वेबसाइटों को गूगल बैन कर दे ताकि युवा, इंटरनेट पर बिछे आतंकवाद के जाल में फसने से बच सके
मेरे ये अपील गूगल से तो है ही, साथ-ही-साथ सभी सर्च इंजन सभी सोशल साइट्स के मालिकों से है
Terrorist-on-internet
Image By http://outloud.com/
Previous
Next Post »

4 comments

Click here for comments
Sudha Singh
admin
7/5/17 10:14 am ×

अच्छा लेख

Reply
avatar
Dev Kumar
admin
7/5/17 10:44 am ×

धन्यवाद सुधा जी

Reply
avatar
8/5/17 2:52 pm ×

शायद किसी के लिए भी ये सेंसर करना आसान नहीं होगा ... और इसके लिए लोगों को जागरुक होना होदा ... खड़ा होना होगा हर समाज, हर धर्म को ....

Reply
avatar
Dev Kumar
admin
9/5/17 10:50 am ×

इसी बात का तो रोना कि लोगों में एकता और जागरूकता नहीं है।

Reply
avatar

जब आये लब पे तो दुआ कीजिए ।
हमारे लिए भी चंद अल्फाज अपनी जुबां कीजिए ।

``````````````````````````````````````````````````````````````
अगर आपको मेरी लिखी कोई भी रचना पसंद आयी हो तो इस पेज को फॉलो करें और मेरी लेखनी को समर्थन देकर मुझे आगे लिखने के लिए प्रोत्साहित करें।
शुक्रिया,,,,,

ConversionConversion EmoticonEmoticon

यूट्यूब से जुड़े